[Trending]_$type=ticker$meta=0$readmore=0$snippet=0$columns=4

आदि शंकराचार्य जीवनी- Adi Shankaracharya In Hindi

आदि शंकराचार्य जीवनी- Adi Shankaracharya In Hindi मुझे आशा है कि आपको आदि शंकराचार्य जीवनी पसंद आएगी आदि शंकराचार्य जीवनी- Adi Shankaracharya In Hindi

आदि शंकराचार्य जीवनी- Adi Shankaracharya In Hindi






आदि शंकराचार्य

अदि शंकरा या शंकर, एक 8 वीं शताब्दी के भारतीय दार्शनिक और धर्मशास्त्री थे जिन्होंने अद्वैत वेदांत के सिद्धांत को समेकित किया। उन्हें हिंदू धर्म में विचार की मुख्य धाराओं को एकजुट करने और स्थापित करने का श्रेय दिया जाता है।





जन्म: 788 ईस्वी, कलदी
निधन: 820 ईस्वी, केदारनाथ
पूरा नाम: शंकर
गुरु: गोविंदा भगवत्पाद
माता-पिता: आर्यम्बा, शिवगुरु




आदि शंकराचार्य (अंग्रेज़ी: Adi Shakaracharya, जन्म नाम: शंकर, जन्म: 788 ई. - मृत्यु: 820 ई.) अद्वैत वेदान्त के प्रणेता, संस्कृत के विद्वान, उपनिषद व्याख्याता और हिन्दू धर्म प्रचारक थे। हिन्दू धार्मिक मान्यता के अनुसार इनको भगवान शंकर का अवतार माना जाता है। इन्होंने लगभग पूरे भारत की यात्रा की और इनके जीवन का अधिकांश भाग उत्तर भारत में बीता। चार पीठों (मठ) की स्थापना करना इनका मुख्य रूप से उल्लेखनीय कार्य रहा, जो आज भी मौजूद है। शंकराचार्य को भारत के ही नहीं अपितु सारे संसार के उच्चतम दार्शनिकों में महत्व का स्थान प्राप्त है। उन्होंने अनेक ग्रन्थ लिखे हैं, किन्तु उनका दर्शन विशेष रूप से उनके तीन भाष्यों में, जो उपनिषद, ब्रह्मसूत्र और गीता पर हैं, मिलता है। गीता और ब्रह्मसूत्र पर अन्य आचार्यों के भी भाष्य हैं, परन्तु उपनिषदों पर समन्वयात्मक भाष्य जैसा शंकराचार्य का है, वैसा अन्य किसी का नहीं है।


जन्म :

शंकराचार्य का जन्म दक्षिण भारत के केरल में अवस्थित निम्बूदरीपाद ब्राह्मणों के 'कालडी़ ग्राम' में 788 ई. में हुआ था। उन्होंने अपने जीवन का अधिकांश समय उत्तर भारत में व्यतीत किया। उनके द्वारा स्थापित 'अद्वैत वेदांत सम्प्रदाय' 9वीं शताब्दी में काफ़ी लोकप्रिय हुआ। उन्होंने प्राचीन भारतीय उपनिषदों के सिद्धान्तों को पुनर्जीवन प्रदान करने का प्रयत्न किया। उन्होंने ईश्वर को पूर्ण वास्तविकता के रूप में स्वीकार किया और साथ ही इस संसार को भ्रम या माया बताया। उनके अनुसार अज्ञानी लोग ही ईश्वर को वास्तविक न मानकर संसार को वास्तविक मानते हैं। ज्ञानी लोगों का मुख्य उद्देश्य अपने आप को भम्र व माया से मुक्त करना एवं ईश्वर व ब्रह्म से तादाम्य स्थापित करना होना चाहिए। शंकराचार्य ने वर्ण पर आधारित ब्राह्मण प्रधान सामाजिक व्यवस्था का समर्थन किया। शंकराचार्य ने सन्न्यासी समुदाय में सुधार के लिए उपमहाद्वीप में चारों दिशाओं में चार मठों की स्थापना की। 'अवतारवाद' के अनुसार, ईश्वर तब अवतार लेता है, जब धर्म की हानि होती है। धर्म और समाज को व्यवस्थित करने के लिए ही आशुतोष शिव का आगमन आदि शकराचार्य के रूप में हुआ।

शिक्षा :

हिन्दू धर्म की मान्यता के अनुसार आदि शंकराचार्य ने अपनी अनन्य निष्ठा के फलस्वरूप अपने सदगुरु से शास्त्रों का ज्ञान ही नहीं प्राप्त किया, बल्कि ब्रह्मत्व का भी अनुभव किया। जीवन के व्यावहारिक और आध्यात्मिक पक्ष की सत्यता को इन्होंने जहाँ काशी में घटी दो विभिन्न घटनाओं के द्वारा जाना, वहीं मंडनमिश्र से हुए शास्त्रार्थ के बाद परकाया प्रवेश द्वारा उस यथार्थ का भी अनुभव किया, जिसे सन्न्यास की मर्यादा में भोगा नहीं जा सकता। यही कारण है कि कुछ बातों के बारे में पूर्वाग्रह दिखाते हुए भी लोक संग्रह के लिए, आचार्य शंकर आध्यात्म की चरम स्थिति में किसी तरह के बंधन को स्वीकार नहीं करते। अपनी माता के जीवन के अंतिम क्षणों में पहुँचकर पुत्र होने के कर्तव्य का पालन करना इस संदर्भ में अत्यंत महत्त्वपूर्ण घटना है।

रचनाएँ व व्यक्तित्व :

शंकराचार्य ने उपनिषदों, श्रीमद्भगवद गीता एवं ब्रह्मसूत्र पर भाष्य लिखे हैं। उपनिषद, ब्रह्मसूत्र एवं गीता पर लिखे गये शंकराचार्य के भाष्य को 'प्रस्थानत्रयी' के अन्तर्गत रखते हैं। शंकराचार्य ने हिन्दू धर्म के स्थायित्व, प्रचार-प्रसार एवं प्रगति में अपूर्व योगदान दिया। उनके व्यक्तितत्व में गुरु, दार्शनिक, समाज एवं धर्म सुधारक, विभिन्न मतों तथा सम्प्रदायों के समन्वयकर्ता का रूप दिखाई पड़ता है। शंकराचार्य अपने समय के उत्कृष्ट विद्वान एवं दार्शनिक थे। इतिहास में उनका स्थान इनके 'अद्वैत सिद्धान्त' के कारण अमर है। गौड़पाद के शिष्य 'गोविन्द योगी' को शंकराचार्य ने अपना प्रथम गुरु बनाया। गोविन्द योगी से उन्हें 'परमहंस' की उपाधि प्राप्त हुई। कुछ विद्वान शंकराचार्य पर बौद्ध शून्यवाद का प्रभाव देखते हैं तथा उन्हें 'प्रच्छन्न बौद्ध' की संज्ञा देते हैं।

मोक्ष और ज्ञान :

आचार्य शंकर जीवन में धर्म, अर्थ और काम को निरर्थक मानते हैं। वे ज्ञान को अद्वैत ज्ञान की परम साधना मानते हैं, क्योंकि ज्ञान समस्त कर्मों को जलाकर भस्म कर देता है। सृष्टि का विवेचन करते समय कि इसकी उत्पत्ति कैसे होती है?, वे इसका मूल कारण ब्रह्म को मानते हैं। वह ब्रह्म अपनी 'माया' शक्ति के सहयोग से इस सृष्टि का निर्माण करता है, ऐसी उनकी धारणा है। लेकिन यहाँ यह नहीं भूलना चाहिए कि शक्ति और शक्तिमान एक ही हैं। दोनों में कोई अंतर नहीं है। इस प्रकार सृष्टि के विवेचन से एक बात और भी स्पष्ट होती है कि परमात्मा को सर्वव्यापक कहना भी भूल है, क्योंकि वह सर्वरूप है। वह अनेकरूप हो गया, 'यह अनेकता है ही नहीं', 'मैं एक हूँ बहुत हो जाऊँ' अद्धैत मत का यह कथन संकेत करता है कि शैतान या बुरी आत्मा का कोई अस्तित्व नहीं है। ऐसा कहीं दिखाई भी देता है, तो वह वस्तुतः नहीं है भ्रम है बस। जीवों और ब्रह्मैव नापरः- जीव ही ब्रह्म है अन्य नहीं।

जगदगुरु :


चार मठों की स्थापना, दशनाम सन्न्यास को सुव्यवस्थित रूप देना, सगुण-निर्गण का भेद मिटाने का प्रयास, हरिहर निष्ठा की स्थापना ये कार्य ही उन्हें 'जगदगुरु' पद पर प्रतिष्ठित करते हैं। स्वामी विवेकानन्द, स्वामी रामतीर्थ जैसे युवा सन्न्यासियों ने विदेशों में जाकर जिस वेदांत का घोष किया, वह शंकर वेदांत ही तो था। जगदगुरु कहलाना, केवल उस परम्परा का निर्वाह करना और स्वयं को उस रूप में प्रतिष्ठित करना बिल्कुल अलग-अलग बातें हैं। आज भारत को एक ऐसे ही महान व्यक्तित्व की आवश्यकता है, जिसमें योगी, कवि, भक्त, कर्मनिष्ठ और शास्त्रीय ज्ञान के साथ ही जनकल्याण की भावना हो, जो सत्य के लिए सर्वस्व का त्याग करने को उद्यत हो।

शंकराचार्य का कथन :

शंकराचार्य का कथन है कि अद्वैत दर्शन की परम्परा अत्यन्त प्राचीन है और उपनिषदों की शिक्षा पर अवलम्बित है। अद्वैत दर्शन के तीन पहलू हैं-तत्व मीमांसाज्ञान मीमांसाआचार दर्शनइनका अलग-अलग विकास शंकराचार्य के बाद के वैदान्तियों ने किया। तत्व मीमांसा की दृष्टि से अद्वैतवाद का अर्थ है कि सभी प्रकार के द्वैत या भेद का निषेध। अन्तिम तत्व ब्रह्म एक और अद्वय है। उसमें स्वगत, स्वजातीय तथा विजातीय किसी भी प्रकार का द्वैत नहीं है। ब्रह्म निरवयव, अविभाज्य और अनन्त है। उसे सच्चिदानंद या 'सत्यं, ज्ञानं, अनन्तम् ब्रह्मा' भी कहा गया है। असत् का निषेध करने से जो प्राप्त हो, वह सत्, अचित् का निषेध करने से जो प्राप्त हो, वह चित् और दु:ख का निषेध करने से जो प्राप्त हो, वह आनंद है। यह ब्रह्मा का स्वरूप लक्षण है, परन्तु यहाँ ध्यान रखने की बात यह है कि सत्, चित् और आनंद न तो ब्रह्म के तीन पहलू हैं, न ही ब्रह्म के तीन अंश और न ब्रह्म के तीन विशेषण हैं। जो सत् है वही चित है और वही आनंद भी है। दृष्टि भेद के कारण उसे सच्चिदानंद कहा गया है- असत् की दृष्टि से वह सत् अचित् की दृष्टि से चित् और दु:ख की दृष्टि से आनंद है।

अज्ञानता तथा मुक्ति :

अज्ञान के कारण जीव अपने स्वरूप को भूल कर अपने को कर्ता-भोक्ता समझता है। इसी से उसको शरीर धारण करना पड़ता है और बार-बार संसार में आना पड़ता है। यही बंधन है। इस बंधन से छुटकारा तभी मिलता है, जब अज्ञान का नाश होता है और जीव अपने को शुद्ध चैतन्य ब्रह्म के रूप में जान जाता है। शरीर रहते हुए भी ज्ञान के हो जाने पर जीव मुक्त हो सकता है, क्योंकि शरीर तभी तक बंधन है, जब तक जीव अपने को आत्मा रूप में न जानकर अपने को शरीर, इन्द्रिय, मन आदि के रूप में समझता है। इसी से वेदान्त में जीवनमुक्ति और विदेहमुक्ति नाम की दो प्रकार की मुक्ति मानी गयी हैं। ज्ञान हो जाने के बाद भी प्रारब्ध भोग के लिए शरीर कुम्हार के चक्र के समान पूर्वप्रेरित गति के कारण चलता रहता है। शरीर छूटने पर ज्ञानी विदेह मुक्ति प्राप्त करता है।






मुझे आशा है कि आपको आदि शंकराचार्य जीवनी पसंद आएगी
आदि शंकराचार्य जीवनी- Adi Shankaracharya In Hindi


No comments:

Name

Akbar Birbal Kahani,12,Akbar Birbal ke kisse,4,Aladdin Story,11,Albert Einstein,1,Animals,4,Astronaut,3,Bachpan Shayari,1,Bal Gangadhar Tilak,1,Bhagat Singh Poetry,1,Bhoot ki Daravni Kahani,1,Biography,205,Birds,4,Bollywood,23,Books,1,Business,10,Chanakya,2,City,1,Country,7,dadimaa ki kahaniya,1,Discovery Ghosts,6,E-Commerce,1,Economics,1,Education,1,Entrepreneur,21,Facts,114,Festival,1,Foods,1,Founders,21,Free Ebooks,2,Freedom Fighters,11,Fruits,1,Full Hindi Story,6,Funny Story,3,Games,1,Google,1,Harivansh Rai Bachchan,3,Haunted Place,4,Heavy Rain,3,Henry ford Biography,1,Hindi,6,Hindi Essay,13,Hindi Kahani,18,Hindi Moral Kahaniya,2,Hindi Poem,1,Hindi Poetry,21,Hindi Short Story,3,Hindi Story,6,History,26,Horror Story,33,How To,1,India,62,Indian Players,18,Indian Politicians,13,Information,34,Inspirational Stories,4,Inventors,5,Jack Ma Biography,1,Kahaniyan,12,Kavi Biography,2,Kids Story,4,Koi Deewana kehta hai Poem,1,Kumar Vishwas,2,Kumar Vishwas Poem,2,Lakes,1,Latest,749,Life Story,2,Lionel Messi Biography,1,Love Story,7,Mahabharat,4,Mahatma Gandhi,2,Meditation,1,Money,2,Monument,4,Mother Teresa Biography,1,Motivational,2,Motivational Poetry,1,Motivational speaker,3,Motivational Story,21,Mystery,20,Narendra Modi,8,Online,1,Personality Development,21,Place To Visit,1,Poet,1,Positive Story,2,Prime Minister,6,Proverb Story,5,Proverbs,1,Psychology,1,Quotes,21,Rahat Indori Poetry,1,Rainy Night At Window,1,Rajendra Prasad Biography Biography,1,Rajiv Gandhi Biography,1,Religious,29,Ritesh Agarwal,1,Rivers,21,Sachin Tendulkar,1,Sad Poetry,3,Saving Tips,1,Scientist,17,Self Confidence,2,Shikshaprad Kahaniyan,8,Sports,19,States,1,Story,8,Struggle story,5,Success Story,45,Technology,4,Temples,5,Tenali Raman Hindi Story,11,The Great Khali Biography,1,Tips,21,Top Stories,207,Tourist Place,10,Travel,1,Vikram Betal Story,1,War,2,Waterfall,1,Websites,1,Wrestler,1,Writer,4,Yahya Bootwala Poetry,2,Zakir Khan,4,Zindagi Poetry,3,कहावतों की कहानियाँ,1,भारतीय वैज्ञानिक,1,शिक्षाप्रद कहानियाँ,23,
ltr
item
StoryBookHindi: आदि शंकराचार्य जीवनी- Adi Shankaracharya In Hindi
आदि शंकराचार्य जीवनी- Adi Shankaracharya In Hindi
आदि शंकराचार्य जीवनी- Adi Shankaracharya In Hindi मुझे आशा है कि आपको आदि शंकराचार्य जीवनी पसंद आएगी आदि शंकराचार्य जीवनी- Adi Shankaracharya In Hindi
https://2.bp.blogspot.com/-yUVyWf67LvQ/XGO4-OV8E_I/AAAAAAAABvE/2vV1hphOLgkDPB7m86L4Jl-7e2Q9ibt2ACLcBGAs/s1600/adi-shankaracharya-in-hindi.jpg
https://2.bp.blogspot.com/-yUVyWf67LvQ/XGO4-OV8E_I/AAAAAAAABvE/2vV1hphOLgkDPB7m86L4Jl-7e2Q9ibt2ACLcBGAs/s72-c/adi-shankaracharya-in-hindi.jpg
StoryBookHindi
https://www.storybookhindi.com/2019/02/adi-shankaracharya-in-hindi.html
https://www.storybookhindi.com/
https://www.storybookhindi.com/
https://www.storybookhindi.com/2019/02/adi-shankaracharya-in-hindi.html
true
6125064977958501049
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS CONTENT IS PREMIUM Please share to unlock Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy