Motivational speaker निक वुजिक जीवनी | Nick Vujicic Story in Hindi

निक वुजिक जीवनी
Nick Vujicic Story in Hindi  



Nick Vujicic Story in Hindi

Nick Vujicic 


Motivational Speaker Nick Vujicic 


Nick Vujicic

निकोलस जेम्स वुजिसिक  एक ऑस्ट्रेलियाई क्रिश्चियन इंजीलवादी और प्रेरक वक्ता है जो टेट्रा-अमेलिया सिंड्रोम के साथ पैदा हुआ है, यह एक दुर्लभ विकार है जो हाथ और पैर की अनुपस्थिति की विशेषता है। वह सात ज्ञात व्यक्तियों में से एक है, जिसे सिंड्रोम का निदान किया जाता है।

जन्म: 4 दिसंबर 1982 (उम्र 36 वर्ष), मेलबर्न, ऑस्ट्रेलिया
पत्नी: कान्य मय्यहारा (एम। 2012)
बच्चे: देजन लेवी वुजिकिक, कियोशी जेम्स वुजिसिक, ऐली लॉरेल वुजिकिक, ओलिविया मेई वुजिक
मूवीज एंड टीवी शो: द बटरफ्लाई सर्कस, द लॉस्ट शीप, बेटर मैन इवेंट, निक वुजिक: बी द हैंड्स एंड फीट
भाई-बहन: हारून वुजिकिक, मिशेल वुजिक

Nick Vujicic Story in Hindi
nick vujicic family 


4 दिसम्बर 1982 को ऑस्ट्रेलिया में एक बच्चे का जन्म हुआ जिसका नाम निक वुजिकिक था। निक वुजिकिक अन्य बच्चों की तरह स्वस्थ थे, लेकिन उनमें एक कमी थी – वे Phocomelia नाम के एक दुर्लभ विकार के साथ पैदा हुय थे, जिसके कारण उनके दोनों हाथ और पैर नही थे।

डॉक्टर हैरान थे कि निक वुजिकिक के हाथ पैर क्यों नहीं है। निक वुजिकिक के माता-पिता को यह चिंता सताने लगी थी कि निक वुजिकिक का जीवन कैसा होगा – एक बिना हाथ पैर वाले बच्चे का भविष्य कैसा होगा? बचपन के शुरूआती दिन बहुत मुश्किल थे। निक वुजिकिक के जीवन में कई तरह की मुश्किलें आने लगी। उन्हें न केवल अपने स्कूल में कई तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ा |


वे हमेशा यही सोचते थे और ईश्वर से हमेशा प्रार्थना करते थे कि काश उनको हाथ-पाँव मिल जाए। वे अपनी विकलांगता से इतने निराश थे कि 10 वर्ष की उम्र में उन्होंने आत्महत्या करने की कोशिश की। लेकिन फिर उनक़ी मां के द्वारा दिए गए एक लेख को पढ़कर उनका जीवन के प्रति नज़रिया पूरी तरह से परिवर्तित हो गया। यह लेख एक समाचार पत्र में प्रकाशित हुआ था, जो एक विकलांग व्यक्ति की अपनी विकलांगता से जंग और उस पर विजय की कहानी थी। उस दिन उन्हें यह समझ में आ गया कि वे अकेले व्यक्ति नहीं हैं, जो संघर्ष कर रहे है।


निक धीरे धीरे यह समझ चुके थे कि वे चाहें तो अपनी जिंदगी को सामान्य तरीके से जी सकते है। निक ने धीरे धीरे पैर की जगह पर निकली हुई अँगुलियों और कुछ उपकरणों की मदद से लिखना और कंप्यूटर पर टाइप करना सीख लिया। 17 वर्ष की उम्र ने अपने प्रार्थना समूह में व्याख्यान देना शुरू कर दिया। 21 वर्ष की उम्र में निक ने एकाउंटिंग और फाइनेंस में ग्रेजुएशन कर लिया और एक प्रेरक वक्ता के रूप में अपना करियर शुरू किया।


Nick Vujicic Story in Hindi




उन्होंने “Attitude is Attitude” नाम से अपनी कंपनी बनाई और धीरे धीरे निक वुजिकिक को दुनिया में एक ऐसे प्रेरक वक्ता के रूप में पहचाना जाने लगा जिनका खुद का जीवन अपने आप में एक चमत्कार है। उन्होंने प्रेरणा और सकारात्मकता का सन्देश देने के लिए “Life Without Limbs” नाम से गैर-लाभकारी संगठन भी बनाया है। 33 वर्षीय निक वुजिकिक आज ना सिर्फ़ एक सफल प्रेरक वक्ता हैं, बल्कि वे वह सब करते है जो एक सामान्य व्यक्ति करता है। जन्म से ही हाथ-पैर न होने के बावजूद वे गोल्फ व फुटबॉल खेलतें है, तैरते हैं, स्काइडाइविंग और सर्फिंग भी करतें हैं।
निक वुजिसिक एक खुशहाल जीवन जीते हैं और लोगों को सीखते हैं कि कैसे सभी स्थिति के लिए प्रेरित किया जाए |






मुझे आशा है कि आप निक वुजिसिक की जीवनी पसंद करेंगे
Motivational speaker निक वुजिक जीवनी 
Nick Vujicic Story in Hindi  



Post a Comment

0 Comments