86th Birth Anniversary मधुबाला की जीवनी- Madhubala Biography in Hindi

The 86th Birth Anniversary मधुबाला की जीवनी- Madhubala Biography in Hindi 






मधुबाला एक भारतीय फिल्म अभिनेत्री थी जो हिंदी फिल्मों में दिखाई दी थी। वह 1942 और 1964 के बीच सक्रिय थी और अपनी सुंदरता, व्यक्तित्व और दुखद महिलाओं के संवेदनशील चित्रण के लिए जानी जाती थी। मधुबाला ने 9 साल की उम्र में फिल्म बसंत के साथ एक छोटी भूमिका में अपनी शुरुआत की।

Madhubala Biography in Hindi


जन्म: 14 फरवरी 1933, दिल्ली
निधन: 23 फरवरी 1969, मुंबई
पूरा नाम: बेगम मुमताज जहान देहलवी
जीवनसाथी: किशोर कुमार (एम। 1960-1969)






प्रारंभिक जीवन 


Madhubala Biography in Hindi




मधुबाला के बचपन का पूरा नाम ‘बेगम मुमताज जेहान देहलावी’ था| मधुबाला अपने माता-पिता की चौथी सन्तान थी | मधुबाला का जन्म 14 फरवरी, 1933 को पश्तून मुस्लिम परिवार में हुआ था। ऐसा कहा जाता है कि एक भविष्यवक्ता ने उनके माता-पिता से ये कहा था कि  मुमताज़ अत्यधिक ख्याति तथा सम्पत्ति अर्जित करेगी परन्तु उसका जीवन दुखःमय  होगा और वह बहुत कम उम्र में उनकी मृत्यु हो जाएंगी| मधुबाला का पूरा जीवन इतिहास जानने के लिए आगे पढ़ें|

मधुबाला सुंदरता का एक प्रतीक थी, जिनका आकर्षण अपराजेय था| वर्तमान काल की पीढ़ी में भी वह अपनी सुंदरता और फिल्मों के काम के लिए पहचानी जाती है| मधुबाला के पिता का नाम अताउल्ला खान था, मुस्लिम भविष्यवक्ता के शब्दों की सुनकर, बेहतर जीवन का नेतृत्व करने के लिए वह बॉम्बे (मुंबई) में रहने लगे इस बीच परिवार को एक साल तक बहुत संघर्ष करना पड़ा। बाल कलाकार के रूप में मधुबाला ने भारतीय फिल्म इंडस्ट्री में प्रवेश किया उस समय उन्हें बेबी मुमताज के नाम से जाना जाता था|

शुरुवाती दौर 

मुमताज ने अपनी पहली फिल्म बसंत (1942) में शानदार प्रदर्शन किया। जिसको देखकर देविका रानी उनके प्रदर्शन और प्रतिभा से चकित हो गईं और उसका नाम बदलकर मधुबाला कर दिया। फिल्म ज्वारभाटा (1944) में, उन्होंने दिलीप कुमार के साथ मुख्य भूमिका निभायी थी।  इससे उन्हें दिलीप कुमार को जानने का अवसर मिला।



मुख्य ब्रेक 

उन्हें मुख्य भूमिका निभाने का पहला मौका केदार शर्मा ने अपनी फ़िल्म  नील कमल (1947) में दिया। इस फ़िल्म में उन्होंने राज कपूर के साथ अभिनय किया। इस फ़िल्म मे उनके अभिनय के बाद उन्हे ‘सिनेमा की सौन्दर्य देवी’ कहा जाने लगा। दो साल के अंतराल के भीतर, उन्होंने अपना करियर स्थापित कर लिया| वह लगातार सफलता की सीढ़ी पर चढ़ती रही और उनकी फिल्में सुपर हिट होती चली गई| जिसमें मुगल-ए-आज़म सबसे बड़ी सुपरहिट फ़िल्म थी। अपने छोटे जीवनकाल में, उन्होंने 70 फिल्मों में काम किया|


नियमित जांच से, यह पाता चला कि मधुबाला के दिल में एक छेद था। उनकी इस बीमारी को फिल्म इंडस्ट्री से गुप्त रखा गया| डाक्टरों ने उनकी सर्जरी करने से मना कर दिया क्योंकि उन्हे डर था कि वो सर्जरी के दौरान ही मर जायेंगीं। डॉक्टरों ने कहा कि अगर ऑपरेशन सफल भी होता है, तो वह एक वर्ष से ज्यादा समय तक नहीं जीयेंगी। यह समय उन्हें महसूस हुआ कि उनको किशोर कुमार से शादी नहीं करनी चाहिए थी। 23 फरवरी, 1969 को मधुवाला का निधन हो गया।







मुझे आशा है कि आपको मधुबाला की जीवनी पसंद आएगी
86th Birth Anniversary मधुबाला की जीवनी- Madhubala Biography in Hindi 

Post a Comment

0 Comments