Footballer क्रिश्चियन रोनाल्डो की जीवनी - Cristiano Ronaldo in Hindi

क्रिश्चियन रोनाल्डो की जीवनी  - Cristiano Ronaldo in hindi


Cristiano Ronaldo

क्रिस्टियानो रोनाल्डो डॉस सैंटोस एवेइरो जीओआईएच कॉम एक पुर्तगाली पेशेवर फुटबॉलर है, जो इतालवी क्लब जुवेंटस के लिए फॉरवर्ड के रूप में खेलता है और पुर्तगाल की राष्ट्रीय टीम की कप्तानी करता है।





साथी: जॉर्जीना रोड्रिग्ज ट्रेंडिंग
जन्म: 5 फरवरी 1985 (उम्र 34 वर्ष), अस्पताल डॉ। नेलियो मेंडोंका, फंचल, पुर्तगाल
ऊँचाई: 1.87 मीटर
बच्चे: अलाना मार्टिना डॉस सैंटोस एवेरो, क्रिस्टियानो रोनाल्डो जूनियर, ईवा मारिया डॉस सैंटोस, मेटो रोनाल्डो
वर्तमान टीमें: जुवेंटस एफ.सी.
पुर्तगाल की राष्ट्रीय फुटबॉल टीम


क्या आप जानते हैं: 
क्रिस्टियानो रोनाल्डो  छठे सबसे महंगे एसोसिएशन फुटबॉल हस्तांतरण (2018 में रियल मैड्रिड से जुवेंटस तक € 100 एम) है।


रोनाल्डो रुइस नेज़रियो डे लीमा  जन्म 18 सितम्बर 1976), आम तौर पर रोनाल्डो के नाम से प्रसिद्ध, ब्राजील के एक फुटबॉल खिलाड़ी हैं, जो वर्तमान में कोरिन्थियंस के लिए खेल रहे हैं। 1990 के दशक के उत्तरार्द्ध और 2000 के दशक के पूर्वार्द्ध में रोनाल्डो विश्व के सर्वाधिक सफल स्कोरर थे। उन्हें अपना पहला बैलन ड'ऑर पुरस्कार यूरोपीय फुटबॉल खिलाड़ी के रूप में वर्ष 1997 (मात्र 21 वर्ष की आयु में) में मिला था और यह पुरस्कार उन्हें 2002 में (26 वर्ष की आयु में) फिर से मिल इसके अतिरिक्त रोनाल्डो, फ़्रांसिसी फुटबॉल खिलाड़ी जैनेडिन जिदान के समान फीफा प्लेयर ऑफ द इयर का पुरस्कार तीन बार जीतने वाले मात्र दो खिलाड़ियों में से एक हैं।
2007 में, उन्हें फ़्रांस फुटबॉल द्वारा अब तक के सर्वश्रेष्ठ स्टार्टिंग इलेवेन के रूप में नामांकित किया गया ऑर फीफा 100 में भी नामांकन प्राप्त हुआ, जो कि उन्ही के देश के निवासी और साथी पेले द्वारा संकलित विश्व के 100 महानतम फुटबॉल खिलाड़ियों की एक सूची होती है। 2010 में, एक ऑनलाइन मतदान में उन्हें गोल.कॉम का 'प्लेयर ऑफ द डिकेड' चुना गया, जिसमें उन्होंने कुल मतों के 43.63 प्रतिशत मत प्राप्त किये और उन्हें 'टीम ऑफ डिकेड' में सेंटर फॉरवर्ड के रूप में स्थान भी मिला 23 फ़रवरी 2010 को, रोनाल्डो ने यह घोषणा की की 2011 के सत्र के बाद वह संन्यास ले लेंगे और इसी के साथ उन्होंने कोरिन्थियास के साथ कार्यकाल में दो वर्षीय विस्तार संबंधी करार पर भी हस्ताक्षर किये  उन्हें विशेषज्ञों और समर्थकों द्वारा व्यापक स्तर पर अब तक के महानतम खिलाड़ियों के रूप में देखा जाता है। 

रोनाल्डो ने ब्राजील की ओर से 97 अंतर्राष्ट्रीय मैच खेले हैं, जिनमे उन्होंने 62 गोल किये हैं। वह उस ब्राज़ील टीम का हिस्सा भी थे, जिसने 1994 और 2002 का विश्वकप जीता था। 2006 फीफा विश्वकप के दौरान, अपने 15वें गोल के द्वारा रोनाल्डो विश्वकप के इतिहास में सर्वाधिक गोल करने वाले खिलाड़ी बन गए, उन्होंने जर्ड म्युलर के 14 गोलों का पिछला कीर्तिमान भी ध्वस्त कर दिया था।

1993: क्रुज़ेरो

1993 में, रोनाल्डो ने क्रुज़ेरो के लिए खेलने के साथ अपना फुटबॉल कैरियर शुरू किया था, जो पहले ही एक सफल क्लब बनने वाला था। क्रुज़ेरो के साथ अपने पहले और अंतिम वर्ष में उन्होंने 14 मैचों के दौरान 12 गोल किये और पहली बार कोपा डो ब्रासील चैम्पियनशिप के लिए क्रुज़ेरो का मार्ग प्रशस्त किया। इससे पहले, उन्हें अपनी किशोरावस्था की पसंदीदा टीम फ्लामेंगो द्वारा अस्वीकृत कर दिया गया था, लेकिन ब्राजील के विश्वकप के महान खिलाड़ी जैरज़ीन्हो ने रोनाल्डो की क्षमता को पहचान लिया और उनके क्रुज़ेरो तक पहुंचने में सहायता की

1994-1996: PSV आइंडहॉवन

1994 विश्व कप के बाद रोनाल्डो ने पीएसवी  के साथ जुड़ने का निश्चय किया, जिसके लिए इन्हें 17 वर्ष की आयु में चयनित भी कर लिया गया था, लेकिन खेलने का अवसर नहीं मिला वह रोमारियो थे, जिन्होंने रोनाल्डो को सलाह दी कि वह पीएसवी  से अपना यूरोपीय करियर शुरू करें; रोमारियो 1988-1993 तक टीम के स्ट्राइकर रह चुके थे। हौलैंड में अपने पहले सत्र में रोनाल्डो ने 30 लीग गोल दागे थे। उनका दूसरा सत्र एक घुटने की चोट के कारण बिगड़ गया था, जिससे उन्हें अधिकांश अभियानों से बाहर ही रहना पड़ा था, लेकिन फिर भी लीग में उनका औसत प्रति मैच एक गोल का रहा था, जिसमे उन्होंने 13 मैचों में 12 गोल अर्जित किय पीएसवी   के साथ रोनाल्डो ने 1996 में डच कप जीता और 1995 में वह एरेदिविस के शीर्ष स्कोरर थे।

पीएसवी के साथ अपनी अवधि के दौरान विशेषतः इंटर मिलान और बार्सिलोना का ध्यान उनकी ओर आकर्षित हुआ। वह बार्सिलोना ही था, जो उनके लिए उस समय की उच्चतम फीस 17 मिलियन देने के लिए तैयार था। 1996-97 के दौरान रोनाल्डो ने बरका के लिए 49 मैचों में अविश्वसनीय 47 गोल अर्जित किये (सभी प्रतिस्पर्धाओं में), वे यूइएफए   कप विनर्स कप की जीत (जहां उन्होंने कप के अंतिम मैच में जीत दर्ज करने वाला गोल करके उस सत्र का समापन किया) और कोपा डेल रे तथा सुपरकोपा डे एस्पना की जीत के लिए कटलन का नेतृत्व कर रहे थे। उन्होंने 1997 में 37 मैचों में 34 गोल करके सर्वाधिक स्कोरर का ला गीगा पुरस्कार भी जीत  2008-09 सत्र तक, रोनाल्डो ला गीगा में 30 से अधिक गोल अर्जित करने वाले अंतिम खिलाड़ी थे। बीस वर्ष की आयु में, 1996 में रोनाल्डो फीफा वर्ल्ड प्लेयर ऑफ द इयर जीतने वाले सबसे कम उम्र के खिलाड़ी बन गए थे। वह बैलेन ड'ऑर में भी द्वितीय विजेता रहे थे।


1997-2002: इंटर मिलान


बार्का में रोनाल्डो का समय संक्षिप्त था, क्योंकि रोनाल्डो के करार पर पुनः समझौते में कुछ समस्याएं चल रही थीं। रोनाल्डो की अप्रसन्नता जाहिर हो गयी और सत्र के अंत में अपने करार की बाई आउट क्लॉज़ फीस का भुगतान करने के द्वारा इंटर मिलान ने अगले वर्ष के लिए 19 मिलियन के उच्च पारिश्रमिक पर उनके साथ करार कर लिया। रोनाल्डो ने अपने पूर्व पक्ष की कप विजय दौड़ में उनकी उचित सहायता की, इस बार यूइएफए  कप में, जहां उन्होंने अंतिम मैच में ही इंटर मिलान की तरफ से उनका तीसरा गोल किया।


अपने पहले सत्र के दौरान रोनाल्डो ने इतालवी खेल शैली को अपनाया और दूसरे सत्र की समाप्ति तक उन्होंने लीग के स्कोरिंग चार्ट में स्थान बना लिया था। रोनाल्डो पूरी तरह से एक फॉरवर्ड खिलाड़ी के रूप में विकसित हो रहे थे। वह गोल करने में सहायता करने वालों के लिए परेशानी का कारण बन गए, पेनाल्टी टेकर का स्थान दिए जाने के लिए पहली पसंद बन गए, फ्रीकिक्स लेने और स्कोर करने लगे और सत्र के अंत में टीम का नेतृत्व भी करने लग गए। इंटर के साथ अपने समय के दौरान, उन्होंने डर्बी डेला मेडॉनिना एसी मिलान के विरुद्ध कई गोल अर्जित किय 1997 में उन्होंने दूसरी बार फीफा वर्ल्ड प्लेयर ऑफ द ईयर का पुरस्कार जीता और इसी वर्ष बैलेन ड'ऑर भी मिला  अगले वर्ष, फीफा विश्व कप के बाद वह फीफा प्लेयर ऑफ द वर्ल्ड की दौड़ में दूसरे स्थान पर रहे और यूरोपियन फुलबॉलर ऑफ द ईयर की दौड़ में तीसरे स्थान पर रहे अपने कैरियर के इस मोड़ पर, उन्हें व्यापक स्तर पर और पूर्ण रूप से विश्व के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में से एक माना जाने लगा 


21 नवम्बर 1999 को लेक के विरुद्ध सीरीज A मैच के दौरान रोनाल्डो को ऐसा महसूस हुआ कि उनका घुटना जकड़ गया है और उन्हें विवश होकर लंगड़ाकर चलते हुए पिच से बाहर जाना पड़ा  मैच के बाद हुए चिकित्सकीय परीक्षणों में इस बात की पुष्टि हो गयी कि स्ट्राइकर के (रोनाल्डो की) घुटने की एक नस फट गयी है और इसके लिए ऑपरेशन की आवश्यकता होगी  12 अप्रैल 2000 को पहली बार वापसी करने के दौरान वह लाज़ियो के विरुद्ध कोप्पा इटालिया के अंतिम मैच के पहले लेग में मात्र 7 मिनट तक खेले और फिर उनका घुटना दूसरी बार चोटिल हो गया।  दो ऑपरेशनों और कई महीनों के स्वास्थ लाभ के बाद, रोनाल्डो 2002 विश्व कप के लिए लौट कर आये और ब्राजील को अपना पांचवां विश्व कप खिताब जीतने में सहायता की  बाद में 2002 में उन्होंने तीसरी बार वर्ल्ड प्लेयर ऑफ द इयर का पुरस्कार जीता और इंटर से रियल मैड्रिड में चले गए। रोनाल्डो को उनका सर्वाधिक प्रचलित उपनाम Il Fenomeno इटालियन प्रेस द्वारा वहां खेलने के दौरान दिया गया था। टाइम्स ऑनलाइन के अनुसार उन्हें इंटर के लिए शीर्ष फुटबॉल खिलाड़ियों में बीसवां स्थान मिला था और केवल उनकी चोट के कारण ही उन्हें और शीर्ष स्थान नहीं मिल सका उन्होंने नेराज्ज़ुरी के लिए कुल 99 मैच खेले और 59 गोल अर्जित किये |


2002-2007: रियल मैड्रिड

Cristiano Ronaldo biography in Hindi




उनकी प्रसिद्धि और उनके प्रति जूनून का माहौल ऐसा था कि रियल मैड्रिड के साथ 39 मिलियन पाउंड में करार करने के बाद उनकी जर्सी की नीलामी ने पहले ही दिन सभी कीर्तिमान ध्वस्त कर दिए चोटिल होने के कारण उन्हें अक्टूबर 2002 तक खेल से बाहर कर दिया गया था लेकिन उनके प्रशंसक उनका नाम रटते रहे रियल मैड्रिड के अपने पहले ही मैच के दौरान रोनाल्डो ने दो बार स्कोर किया। सेंटियागो बर्नाबेयु में सभी ने उनके सम्मान में खड़े होकर उनकी प्रशंसा की ऐसा ही स्वागत एथलेटिक बिलाबो के विरुद्ध उस सत्र के अंतिम मैच की रात को भी किया गया था, जहां अपने पहले सत्र की समाप्ति 23 लीग गोल के साथ करने के लिए रोनाल्डो ने पुनः स्कोर किया था और 2003 का ला गीगा चैम्पियनशिप खिताब भी जीता था, जिसे वह पूर्व में बार्सिलोना के साथ जीतने में असफल रहे थे। रियल के साथ उन्होंने एक 2002 में एक इंटरकॉन्टिनेंटल कप और 2003 में स्पैनिश सुपर कप भी जीता था। 

रियल मैड्रिड के चैम्पियन लीग, क्वार्टर फाइनल के दूसरे लेग में, मैनचेस्टर युनाइटेड को प्रतियोगिता से बाहर करने के लिए रोनाल्डो ने उनके विरुद्ध हैट-ट्रिक भी लगायी 03/04 सत्र के अंत में रोनाल्डो के घायल होने के पूर्व तक रियल तिहरी जीत के मार्ग पर था और वे कोप्पा डे रे का अंतिम मैच हार गए तथा चैम्पियन लीग के क्वार्टर फाइनल से बाहर कर दिए गए और लीग के प्रदर्शन की लय भी टूट गयी। जिस सत्र में उन्होंने 24 गोल के साथ लीग के शीर्ष स्कोरर के रूप में समाप्ति की और रियल द्वारा वैलेंसिया के हाथों लीग खिताब हारने के बावजूद भी उन्हें पिक्हिची ट्रॉफी प्रदान की गयी। 

रियल मैड्रिड चैम्पियंस लीग में आर्सेनल द्वारा अंतिम 16 के पहले राउंड में ही बाहर हो गए थे और लगातार तीसरे सत्र में भी बिना किसी ट्रॉफी के बाहर हो गए थे। रियल मैड्रिड के साथ अपने समय के दौरान रोनाल्डो ने अपने कुछ प्रमुख विरोधियों के विरुद्ध गोल किये थे, जिसमे अधिकांश गोल ऐसे थे जो एटलेटिको मैड्रिड और बार्सिलोना के विरुद्ध किये गए थे। 2006 में रुड वैन निस्तल्रूइ के अधिग्रहण के बाद, चोट और वज़न के मुद्दों के कारण रोनाल्डो के प्रबंधक फाबियो कैपेलो के साथ मतभेद बढ़ते गए।



2007-2008 : एसी मिलान



18 जनवरी 2007 को, यह जानकारी दी गयी कि रोनाल्डो 7.5 मिलियन पाउंड के हस्तांतरण पर एसी मिलान की शर्तों पर सहमत हो गए थे। रोनाल्डो अपने करार की शेष अवधि पूर्ण करने के लिए विवश थे, जिसकी वजह से उन्हें रियल मैड्रिड से जुड़े रहने पड़ा, मात्र इसलिए क्योंकि रियल मैड्रिड उन्हें छोड़ने को तैयार नहीं था, जबकि एसी मिलान इतनी बड़ी राशि देने के लिए तैयार नहीं था। 

25 जनवरी गुरूवार को रोनाल्डो रोमा के विरुद्ध एक मैच में एसी मिलान का खेल देखने के लिए मैड्रिड से मिलान गए। क्लब की वेबसाइट पर दिए गए कथनों के अनुसार रोनाल्डो चिकित्सा के सम्बन्ध में मिलान आये थे और ऐसी मिलान में स्थानांतरण के सम्बन्ध में चर्चा को अंतिम रूप देने के लिए रियल मैड्रिड के अधिकारियों के साथ उनकी मुलाक़ात सुनिश्चित की गयी थी। 26 जनवरी को रोनाल्डो ने मिलानेलो ट्रेनिंग कॉम्प्लेक्स में क्लब के चिकित्सकों के निरीक्षण में चिकित्सकीय परीक्षण को सफलतापूर्वक उत्तीर्ण कर लिया और 30  जनवरी को उनका स्थानांतरण पूरा हो गया तथा उन्हें 99 संख्या वाली जर्सी भी मिल गयी। 

11 फ़रवरी 2007 को लिवोर्नो पर 2-1 की जीत के दौरान उन्होंने दूसरे खिलाड़ी के स्थानापन्न के रूप में शुरुआत की  17 फ़रवरी 2007 की सियेना में हुए अगले मैच में ऎसी मिलान के लिए अपनी पहली शुरुआत में रोनाल्डो ने दो गोल अर्जित किये और तीसरे के होने में सहायता की, यह उत्तेजनात्मक मैच उन्होंने 4-3 से जीत लिया। अपने पहले सत्र में, 14 मैच के दौरान रोनाल्डो ने 7 गोल अर्जित किये |

एसी मिलान में आने के बाद, रोनाल्डो का नाम उन कुछ खिलाड़ियों की सूची में आ गया जिन्होंने मिलान डर्बी में इंटर मिलान और ऐसी मिलान दोनों के लिए मैच खेले और वह डर्बी गेम (इंटर के लिए 98/99 सत्र और मिलान के लियेन 06/07 सत्र), में दोनों की और से गोल अर्जित करने वाले मात्र दो खिलाड़ियों में से एक बन गए, अन्य खिलाड़ी ज्लाटन इब्रहिमोविक थे। रोनाल्डो की गिनती उन कुछ खिलाड़ियों में की जाती है, जिन्होंने रियल मैड्रिड और बार्सिलोना के मैच की शुरुआत की, 

इसके साथ ही उत्तेजनात्मक शत्रुता के भी किस्से जुड़े हैं। हालांकि, रोनाल्डो ने कभी भी दो विरोधी क्लबों के मध्य सीधे स्थानांतरण नहीं किया। बार बार हो रही चोट और वज़न की समस्याओं के कारण ऐसी मिलान में अपने एक मात्र सत्र के दौरान रोनाल्डो सिर्फ 300 से कुछ अधिक मिनटों के लिए ही खेल पाये  2007/2008 सत्र में, सत्र से पूर्व लेके के विरुद्ध किये गए गोल के अतिरिक्त रोनाल्डो द्वारा इस सत्र किया गया एक मात्र गोल सैन सिरों में नापोली के विरुद्ध 5-2 से दर्ज की गयी जीत में किया गया था, जहां उन्हें इमोशनल ब्रेस भी दिया गया था। यह पहली बार ही था जब ऐसी मिलान की बहुचर्चित तिकड़ी काका, एलेक्सेंड्रो पाटो और रोनाल्डो, जिसे का-पा-रो भी कहा जाता था, एक साथ खेल रही थी। 



कुल मिलाकर उन्होंने ऐसी मिलान के लिए खेले कुल 20 मैचों में 9 गोल अर्जित किये
पिछले दशक की आश्चर्यजनक सफलता के बावजूद भी रोनाल्डो अपने क्लब कैरियर में कभी यूइएफए   चैम्पियन लीग नहीं जीत सके 2006-07 सत्र के दौरान, हालांकि ऐसी मिलान 2006-07 का खिताब जीत गया था, रोनाल्डो मैड्रिड के साथ कप हेतु बद्ध थे और ऐसी मिलान के लिए खेलने के योग्य नहीं थे। 

इस लीग को जीतने के सबसे करीब वह 2003 में पहुंचे थे, जब उन्होंने सेमीफाइनल में पहुंचाने में रियल मैड्रिड की सहायता की थी, इस मैच में रियल मैड्रिड जुवेंटस के हाथों हार गया था।

सत्र के अंत में 13 फ़रवरी 2008 को लिवोर्नो के साथ ऐसी मिलान के 1-1 ड्रा में क्रॉस हेतु उछलते हुए रोनाल्डो घुटने की गंभीर चोट से ग्रस्त हो गए थे और उन्हें स्ट्रेचर पर लिटाकर अस्पताल तक ले जाया गया। मैच के बाद ऐसी मिलान ने इस बात की पुष्टि की कि रोनाल्डो के बाएं घुटने की ऊपर की हड्डी के अस्थिरज्जु क्षतिग्रस्त हो गए हैं। इसके साथ ही यह इस प्रकार की चोट की तीसरी घटना हो गयी, वे 1998 और 2000 में पहले ही दो बार दाहिने घुटने में ऐसे चोट खा चुके थे। सत्र के अंत में वह मिलान के करार से मुक्त हो गए थे क्योंकि उनका अनुबंध समाप्त हो गया था और इसका नवीनीकरण नहीं किया गया।

2009-वर्तमान: कोरिंथियंस

Cristiano Ronaldo Biography in Hindi




घुटने की चोट के लिए आराम करने के दौरान रोनाल्डो फ्लामेंगो के साथ प्रशिक्षण में व्यस्त रहे और क्लब के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने कहा कि उनके प्रवेश के लिए दरवाजे खुले हैं। हालांकि, 9 दिसम्बर को रोनाल्डो ने फ्लामंगो के लीग विरोधी कोरिंथियंस के साथ एक वर्षीय अनुबंध कर लिया। फ्लामेंगो के ऊपर कोरिंथियंस को वरीयता देने की इस घोषणा को ब्राजील की प्रेस में काफी चर्चा मिली, क्योंकि रोनाल्डो ने सार्वजनिक रूप से फ्लामेंगो के प्रसंशक होने का दावा किया था और क्लब की तरफ से खेलने का वादा भी किया था। 
रोनाल्डो ने कोरिंथियंस के लिए अपना पहला मैच 4 मार्च 2009 को खेला जो इस्तेदियो जुस्केलिनो क्युबित्शेक्क में इतुम्बियारा के विरुद्ध एक कोपा डो ब्रासील मैच था जिसमे वह जॉर्ज हेनरिक के स्थानापन्न के रूप में खेल रहे थे।  

रोनाल्डो ने कोरिंथियंस के लिए अपना पहला गोल 8 मार्च 2009 को किया था, यह पाल्मेराज़ के विरुद्ध एक कैम्पियेनैटो पौलिस्टा मैच था।  उन्होंने 14 मैचों में 10 गोल करके कैम्पियेनैटो पौलिस्टा जीतने में कोरिंथियंस की सहायता की  रोनाल्डो ने इंटरनैक्नल को हराने कुल 4-2 के स्कोर से कोरिंथियंस की सहायता की और क्लब को अपना तीसरा ब्राजील कप (उनके कैरियर का दूसरा ब्राजील कप) जीतने में भी मदद की, इस प्रकार उन्होंने कोपा लिबर्टाडोर्स 2010 में एक स्थान भी अर्जित किया। 20 सितम्बर को गोइआस के विरुद्ध एक मैच में वे वापस आ गए। 27 सितम्बर 2009 को उन्होंने साओ पौलो के विरुद्ध 1-1 ड्रा में कोरिंथियंस के लिए स्कोर किया।
उन्होंने ब्राजील श्रंखला A2009 को 20 मैचों में 12 गोल के साथ समाप्त किया।

फरवरी 2010 में, रोनाल्डो ने कोरिन्थियंस के साथ अपने करारनामे का विस्तार किया, जिसके अनुसार वह 2011 तक क्लब के साथ रह सकते थे और उन्होंने कहा कि इसके बाद वह संन्यास ले लेंगे |

अंतर्राष्ट्रीय करियर


रोनाल्डो ने अपना पहला अंतर्राष्ट्रीय मैच 1994 में ब्राजील के लिए खेला, यह रेसिफ में अर्जेंटाइना के विरुद्ध हुआ एक फ्रेंडली मैच था। वे संयुक्त राज्य मे 1994 फीफा वर्ल्ड कप एक सत्रह वर्षीय खिलाड़ी के रूप में गए, किन्तु उन्हें खेलने का अवसर नहीं मिला वे रोनैल्डिनो (पुर्तगाली भाषा में "छोटा रोनाल्डो") के नाम से प्रसिद्ध हो गए क्योंकि टूर्नामेंट में उनकी टीम के सदस्य, रोनाल्डो रौड्रिग्स डे जीसस जो उनसे बड़े थे, को भी रोनाल्डो नाम से ही पुकारा जाता था और रौड्रिग्स का उपनाम भी रोनाल्डाओ ("बड़ा रोनाल्डो") कर दिया गया, जिससे कि उन दोनों के बीच यह भेद किया जा सके अन्य ब्राजीलियाई खिलाड़ी, रोनाल्डो डे असीस मोरेरा, जो रोनालडिन्हो नाम से अधिक जाने जाते हैं, उन्हें 1999 में ब्राजील की मुख्य अंतर्राष्ट्रीय टीम में शामिल होने पर अब रोनालडिन्हो गौचो कहा जाने लगा |

Cristiano Ronaldo in Hindi


अटलांटा में 1996 के ओलम्पिक खेलों के दौरान रोनाल्डो अपनी शर्त पर रोनालडिन्हो के नाम से खेले, क्योंकि सेंटर बैक रोनाल्डो गुइअरो, जोकि उनसे दो वर्ष वरिष्ठ थे, भी उन्ही की टीम के सदस्य थे। ब्राजील ने अटलांटा में कांस्य पदक जीता |


इन्हें 1996 और 1997 में फीफा वर्ल्ड प्लेयर ऑफ द ईयर के रूप में चुना गया, उन्होंने 1998 के फीफा वर्ल्ड कप के दौरान 4 गोल अर्जित किये और 3 गोल में  सहायता की  अंतिम मैच की पूर्व रात्रि को उन्हें एक आपेक्षकारी दौरा पड़ा था। प्रारंभ में रोनाल्डो को मैच शुरू होने के पहले ही शुरूआती क्रम से 72 मिनट पूर्व ही हटा दिया गया था, लेकिन उन्होंने खेलने के लिए अनुरोध किया और कोच मारियो ज़गेलो ने बाद में उन्हें बहाल कर दिय  रोनाल्डो अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सके और फ़्रांसिसी गोलकीपर फाबियेन बार्थेज़ से हुई टक्कर के दौरान घायल हो गए। ब्राजील अंतिम मैच में मेज़बान फ़्रांस के हाथों 3-0 से हार गया।  एड्रियन विलियम्स, जो बर्मिंघम विश्विद्यालय में नैदानिक स्नायुविज्ञान के प्रोफ़ेसर हैं, ने कहा कि रोनाल्डो को ऐसे में खेलना नहीं चाहिए था, यह कहते हुए उन्होंने बताया कि वे दौरे के बाद के प्रभावों को महसूस कर रहे होंगे और यह भी कि "ऐसा बिलकुल भी संभव नहीं है कि वे अपने पहले दौरे के 24 घंटे के अन्दर अपनी पूर्ण क्षमता के अनुरूप प्रदर्शन कर सकें - यदि यह उनका पहला दौरा था तो " 



2002 फीफा वर्ल्ड कप के दौरान रोनाल्डो ने पुनः राष्ट्रीय टीम का नेतृत्व किया और इस टीम ने पांचवीं बार यह खिताब जीतकर कीर्तिमान स्थापित किया, रोनाल्डो ने 8 गोल के साथ शीर्ष स्कोरर के रूप में गोल्डेन शू भी जीता और प्रतियोगिता के सबसे महंगे खिलाड़ी के रूप में गोल्डेन बॉल के द्वितीय विजेता रहे उन्होंने क्वार्टर फाइनल में इंग्लैंड के विरुद्ध छोड़कर अन्य सभी विरोधियों के विरुद्ध स्कोर अर्जित किया। अंतिम मैच में जर्मनी के विरुद्ध, रोनाल्डो ने अपना 11वां और 12वां गोल किया जिसके लिए उनकी ज़ोरदार प्रशंसा की गयी और पेले के ब्राजील के 12 वर्ल्ड कप के गोल के कीर्तिमान के बराबर पहुंच गए। 

2 जून 2004 को, रोनाल्डो ने ब्राजील के लिए उनके पुराने विरोधी अर्जेन्टीना के विरुद्ध 2006 विश्व कप के क्वालिफाइंग मैच में पेनाल्टी की असाधारण हैट-ट्रिक स्कोर की 2006 के फीफा वर्ल्ड कप में, हालांकि ब्राजील क्रमशः क्रोएशिया और ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध अपने दो समूह मैच जीत चूका था, फिर भी रोनाल्डो पर लगातार सुस्त होने और अधिक वज़न के लिए ताने दिए जाते रहे इसके बावजूद कोच कैर्लौस एल्बर्टो परेरा रोनाल्डो को हटाये जाने की मांगों के बाद भी उन्हें शुरूआती क्रम में बनाये रखा तीसरे मैच में जापान के विरुद्ध दो गोल करने के साथ ही वह उन bees खिलाड़ियों में आ गए जिन्होंने अलग अलग फीफा वर्ल्ड कप में स्कोर अर्जित किये और विश्व कप फाइनल में अब तक के सर्वाधिक, 14 गोल अर्जित करने के कीर्तिमान की भी बराबरी की, यतः कीर्तिमान अब तक जर्ड म्युलर के पास था |

(रोनाल्डो ने फ़्रांस 98, कोरिया/जापान 2002 और जर्मनी 2006 में स्कोर किये थे ) और इस प्रकार उन्होंने घाना के विरुद्ध 16 मैचों के राउंड में विश्व कप का 15वां गोल अर्जित करके म्युलर का कीर्तिमान ध्वस्त कर दिया  उन्होंने एक अत्यन्य कम चर्चित कीर्तिमान की भी बराबरी की: 2006 विश्व कप में अपने तीसरे गोल के साथ रोनाल्डो अब तक के दूसरे ऐसे खिलाड़ी बन गए, जिसने प्रत्येक तीन विश्व कप में कम से कम तीन गोल अर्जित किये, पहले खिलाड़ी जुर्गेन किंसमैन थे। हालांकि, क्वार्टर फाइनल में ब्राजील फ़्रांस के हाथों 1-0 से हार कर बाहर हो गया था। हालांकि, रोनाल्डो और किंसमैन का प्रत्येक विश्व कप फाइनल में कम से कम तीन गोल करने के कीर्तिमान अब किंसमैन के ही जर्मन साथी मिर्सोलाव क्लोस द्वारा भी प्राप्त कर लिया गया है और उन्होंने प्रत्येक तीन प्रतियोगिताएं में 4 गोल अर्जित करके इस कीर्तिमान को और भी श्रेष्ठ कर दिया है, उन्होंने 2002 और 2006 के अंतिम मैच में 5 गोल तथा 2010 की प्रतियोगिता में 4 गोल किये थे।

निजी जीवन‍

रोनाल्डो नेलो नाज्रियो डे लीमा सीनियर और सोनिया डोस सैंटोस बारता की तीसरी संतान हैं, रोनाल्डो के एक भाई भी है जिनक नाम नेलो जूनियर है।
1997 के दौरान, रोनाल्डो की मुलाक़ात ब्राजीलियाई मॉडल और अभिनेत्री सुसैना वर्नर से ब्राजीलियाई टेलीनॉवेल मल्हाकाओ के सेट पर हुई, जब वे दोनों इसकी तीन कड़ियों में साथ में अभिनय कर रहे थे।  हालांकि इन दोनों ने विवाह नहीं किया, पर दोनों के बीच लम्बे समय तक सम्बन्ध रहे और 1999 की शुरुआत से पूर्व तक दोनों साथ में मिलान में रहते रहे अप्रैल 1999 में, रोनाल्डो ने ब्राजील की महिला फुटबॉल खिलाड़ी मेलन डोमिंग्स से विवाह कर लिया, उस समय रोनाल्डो का पहला बेटा रोनाल्ड उनके गर्भ मे था। 






यह विवाह चार वर्षों तक चला  दंपत्ति को एक बेटा, रोनाल्ड (जन्म 6 अप्रैल 2000, मिलान में) हुआ।  2005 में, रोनाल्डो की ब्राजीलियाई मॉडल और एमटीवी वीजे डेनियेला सिस्रेली के साथ सगाई हो गये, जो गर्भवती हुई किन्तु उनका गर्भपात हो गया; शैतु डे शैन्तिली में हुए उनके शानदार विवाह के बाद यह सम्बन्ध मात्र तीन महीने ही चला  इस समारोह का खर्च आधिकारिक रूप से 700,000 यूरो आया था। रोनाल्डो के सम्बन्ध ब्राजील की श्रेष्ठतम मॉडल रैका ओलिविएरा से भी थे, जो दिसम्बर 2006 में समाप्त हो गए।


अप्रैल 2008 में, रोनाल्डो तीन समलैंगिक वेश्याओं से सम्बंधित एक मामले में लिप्त पाये गए, जिनसे वह रियो डे जेनेरियो शहर में स्थित एक नाइट क्लब में मिले थे।  यह पता लगने पर कि वह दरअसल आदमी हैं, रोनाल्डो ने उन्हें वहां से चले जाने के लिए 600 डॉलर देने का प्रस्ताव रखा  हालांकि, तीन में से एक ने, एंड्रे लुईस रिबेरियो एल्बर्टिनी (एंड्रिया एल्बर्टिनी के रूप ने प्रचलित) 30,000 डॉलर की मांग रखी और यह मामला मीडिया के सामने उजागर कर दिया  स्थानीय पुलिस अध्यक्ष के अनुसार, " रोनाल्डो बहुत उत्तेजित थे और बाहर जाकर कुछ मज़ा लेना चाहते थे, बिना प्रेस की जानकारी के रोनाल्डो ने कहा कि वह मानसिक रूप से स्थिर नहीं हैं और उन्हें हाल में हुई सर्जरी के कारण कुछ मनोवैज्ञानिक समस्याएं हो रही हैं। लेकिन उन्होंने कोई अपराध नहीं किया, अधिक से अधिक यह एक अनैतिक कार्य था।


"  मरिया बीट्रिज़ एंटोनी के साथ रोनाल्डो की सगाई इस वेश्या काण्ड के तुरंत बाद तोड़ दी गयी  लेकिन बाद में पुनः बहाल हो गयी। मरिया बीट्रिज़ एंटोनी ने उनकी पहली बेटी को जन्म दिया, जिसका नाम सोफिया रखा गया, उसका जन्म रियो डि जेनेरियो में 24 दिसम्बर 2008 को हुआ था। अप्रैल 2009 में, पूरा परिवार साओ पौलो में एक नए पेंटहाउस में रहने के लिए आ गया।  6 अप्रैल 2010 को, मारिया बीट्रिज़ एंटनी अपनी दूसरी बेटी को जन्म दिया उनके बेटी जो साओ पौलो में पैदा हुई थी, उसका नाम मरिया एलिस रखा गया। संयोगवश, मरिया ऐलिस का जन्म उसके बड़े भाई के ठीक 10 वर्ष के बाद हुआ। 


दिसम्बर 2010 में, रोनाल्डो और उनका परिवार साओ पौलो में ही एक नए भवन में रहने लगे  दिसम्बर में ही, रोनाल्डो ने अभिभावकीय जांच करायी और उस जांच में यह पुष्टि हो गयी कि वे एलेकजैंडर (जिसका जन्म अप्रैल 2005 में हुआ था) नाम के एक लड़के के पिता हैं। इस लड़के के जन्म रोनाल्डो और मशेल उमेजु, जो कि एक ब्राजीलियाई महिला वेटर हैं, के संक्षिप्त सम्बन्ध के बाद हुआ था, रोनाल्डो उनसे 2002 में टोक्यो में मिले थे।  

Cristiano Ronaldo in Hindi


अपने चौथे बच्चे की पुष्टि होने के बाद, स्ट्राइकर ने यह घोषणा कर दी कि चार बच्चे बहुत हैं, अब वह "नसबंदी करवा लेंगे" इसलिए, 26 दिसम्बर 2010 को, उन्होंने हाल में करवायी गयी नसबंदी की जानकारी दी 
2005 से, रोनाल्डो A1 ब्राजील टीम के सह-स्वामी रहे हैं, इसके दूसरे स्वामी ब्राजील के मोटरस्पोर्ट की महान हस्ती एमर्सन फिट्टीपल्डी हैं।





मुझे आशा है कि आपको क्रिस्टियानो रोनाल्डो की जीवनी पसंद आएगी
Footballer क्रिश्चियन रोनाल्डो की जीवनी  - Cristiano Ronaldo in Hindi

Post a Comment

0 Comments