आविष्कार- टेलीफोन अलेक्जेंडर ग्राहम बेल की जीवनी | Alexander graham bell in Hindi

अलेक्जेंडर ग्राहम बेल की जीवनी | Alexander graham bell in Hindi 




अलेक्जेंडर ग्राहम बेल एक स्कॉटिश-जनित वैज्ञानिक, आविष्कारक, इंजीनियर और नवप्रवर्तक थे, जिन्हें पहले व्यावहारिक टेलीफोन का आविष्कार और पेटेंट कराने का श्रेय दिया जाता है। उन्होंने 1885 में अमेरिकन टेलीफोन एंड टेलीग्राफ कंपनी की भी स्थापना की।

जन्म: 3 मार्च 1847, एडिनबर्ग, यूनाइटेड किंगडम
निधन: 2 अगस्त 1922, बीन भारेघ
जीवनसाथी: माबेल गार्डिनर हबर्ड (एम। 1877-1922)
निवास: यूनाइटेड किंगडम; कनाडा; संयुक्त राज्य अमेरिका
आविष्कार:



  • Telephones
  • Photophone
  • Hydrofoil
  • Audiometer
  • Metal Detectors
  • Tetrahedral kite
  • HD-4

Alexander graham bell in Hindi


एलेग्जेंडर ग्रैहम बेल की शिक्षा:-


युवा बालक के रूप में बेल अपने भाइयों की ही तरह थे, उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा घर पर ही अपने पिता से ही ग्रहण की थी। अल्पायु में ही उन्हें स्कॉटलैंड के एडिनबर्घ की रॉयल हाई स्कूल में डाला गया था और 15 साल की उम्र में उन्होंने वह स्कूल छोड़ दी थी। 

उस समय उन्होंने पढ़ाई के केवल 4 प्रकार ही पुरे किये थे। उन्हें विज्ञान में बहुत रूचि थी, विशेषतः जीवविज्ञान में, जबकि दुसरे विषयों में वे ज्यादा ध्यान नही देते थे। स्कूल छोड़ने के बाद बेल अपने दादाजी एलेग्जेंडर बेल के साथ रहने के लिये लन्दन चले गये थे। जब बेल अपने दादा के साथ रह रहे थे तभी उनके अंदर पढ़ने के प्रति अपना प्यार जागृत हुए और तभी से वे घंटो तक पढ़ाई करते थे। युवा बेल ने बाद में अपनी पढ़ाई में काफी ध्यान दिया था। उन्होंने अपने युवा छात्र दृढ़ विश्वास के साथ बोलने के लिये काफी कोशिशे भी की थी। 

और उन्होंने जाना की उनके सभी सहमित्र उन्होंने एक शिक्षक की तरह देखना चाहते है और उनसे सीखना चाहते है।


16 साल की उम्र में ही बेल वेस्टन हाउस अकादमी, मोरे, स्कॉटलैंड के वक्तृत्वकला और संगीत के शिक्षक भी बने। इसके साथ-साथ वे लैटिन और ग्रीक के विद्यार्थी भी थे। इसके बाद बेल ने एडिनबर्घ यूनिवर्सिटी भी जाना शुरू किया, और वही अपने भाई मेंलविल्ले के साथ रहने लगे थे। 1868 में अपने परिवार के साथ कनाडा शिफ्ट होने से पहले बेल ने अपनी मेंट्रिक की पढ़ाई पूरी कर ली थी और फिर उन्होंने लन्दन यूनिवर्सिटी में एडमिशन भी ले लिया था।


Alexander graham bell in Hindi


एलेग्जेंडर ग्रैहम बेल के अविष्कार:-

आविष्कार:




  • Telephones
  • Photophone
  • Hydrofoil
  • Audiometer
  • Metal Detectors
  • Tetrahedral Kite
  • HD-4

मई, 1874 में टेलीफोन का अविष्कार। बाद में उन्होंने फ़ोनोंऑटोग्राफ पर प्रयोग करना शुरू किया, एक ऐसी मशीन जो स्वर की लहरों को रुपरेखा दे सके। इसी साल की गर्मियों में उन्होंने टेलीफोन बनाने की योजना भी बनायी। इसके बाद उन्होंने अपने असिस्टेंट थॉमस वाटसन को भी काम पर रख लिया था। 


2 जून 1875 को बेल ने टेलीफोन पर चल रहे अपने काम को सिद्ध किया। इसके बाद वाटसन ने बेल के फ़ोनोंऑटोग्राफ में लगी धातु की एक नलिका को खिंचा। अचानक हुई इस घटना से यह भी पता चला की टेलीफोन से हम ध्वनि को भी स्थानांतरित कर सकते है। 7 मार्च 1876 को बेल में अपने विचारों का पेटेंट हासिल किया।








बेल को यूनाइटेड स्टेट पेटेंट ऑफिस पेटेंट नंबर 174,465 मिला। इससे उनके विचारों को भी कॉपी नही कर सकता था और वे आसानी से टेलेग्राफी तरंगो से मशीन से आवाज को स्थानांतरित कर सकते थे। 


3 अगस्त 1876 को उन्होंने पहला लंबी दुरी का कॉल लगाया। इसके बाद बेल को दूर के किसी ब्रन्तफोर्ड गाँव से एक ध्वनि-सन्देश भी मिला, यह सन्देश तक़रीबन 4 मिल दूर से आया था। इस घटना के बाद बेल ने अपनी योजनाओं को लोगों के सामने बोलना शुरू किया और अपनी खोजों को सार्वजनिक रूप से जाहिर भी किया। 11 जुलाई 1877 को बेल ने पहली टेलीफोन कंपनी की स्थापना की।


बेल के टेलीफोन कंपनी की स्थापना हुई। इसी साल बेल ने कैम्ब्रिज के मबेल हब्बार्ड से शादी की। लेकिन अभी भी उनकी कमाई का जरिया पढाना ही था क्योंकि उस समय टेलीफोन उनके लिए ज्यादा लाभदायी नही था। 1881 को बेल ने दुसरे कई अविष्कार भी किये। बेल ने फोनोग्राफ, मेंटल डिटेक्टर, मेंटल जैकेट की भी खोज की और साथ ही ऑडियोमीटर की भी खोज की ताकि लोगों को सुनने में परेशानी ना हो, इसके बाद उनके नाम पर 18 पेटेंट दर्ज किये गए।





Alexander graham bell in Hindi




उनके अविष्कारों को देखते हुए उन्हें बहुत से सम्मानों और पुरस्कारों से नवाजा भी गया था और आज भी उन्हें कई पुरस्कार दिये जाते है। 1897 में बेल प्रसिद्ध हुए और बहुत सी संस्थाओ में भी उन्हें शामिल किया गया। 25 जनवरी 1915 को बेल ने पहला ट्रांस-अटलांटिक फ़ोन कॉल लगाया। पहली बार बेल ने उपमहाद्वीप के बाहर से भी वाटसन को कॉल लगाया। इस कॉल के 38 साल पहले, बेल और वाटसन ने फ़ोन पर बात की थी। लेकिन यह कॉल उस फ़ोन से काफी बेहतर था और आवाज भी साफ़ थी।



एलेग्जेंडर ग्रैहम बेल की मृत्यु:-



2 अगस्त 1922 को 75 साल की उम्र में अपनी व्यक्तिगत जगह बेंनभ्रेअघ, नोवा स्कॉटिया में डायबिटीज की वजह से उनकी मृत्यु हुई थी। बेल एनीमिया से भी ग्रसित थे। आखरी बार उन्होंने रात को 2.00 बजे अपनी माउंटेन एस्टेट के दर्शन किये थे। 

लम्बी बीमारी के बाद उनकी पत्नी मबेल ने उनके गानों में गुनगुनाते हुए कहा था, “मुझे छोड़कर मत जाओ।” जवाब में बेल ने “नहीं…।” कहा और कुछ ही समय बाद उनकी मृत्यु भी हो गयी थी। 




Alexander graham bell in Hindi

Great Discoveries And Improvements Invariably 
involve the cooperation 
of many minds.

~ Alexander Graham Bell 


More 





मुझे आशा है कि आपको अलेक्जेंडर ग्रैहम बेल की जीवनी पसंद आएगी
आविष्कार- टेलीफोन अलेक्जेंडर ग्राहम बेल की जीवनी | Alexander graham bell in Hindi 

Post a Comment

0 Comments